राजीन्दर दास जी महाराज कथा के पश्चात श्रीफल एवं शाल उड़ा कर विदाई देते हुए स्वामी गोविन्द देव गिरी जी महाराज

Prev my images Next